RBI ने जारी किए 5 नए नियम, लोन लेने से पहले जान ले ये जरूरी नियम
|

Cibil Score : RBI ने जारी किए 5 नए नियम, लोन लेने से पहले जान ले ये जरूरी नियम, यहां मिलेगी पूरी जानकारी

CIBIL स्कोर एक पैरामीटर है जो आपकी क्रेडिट भुगतान करने की क्षमता को दर्शाता है। यह 300-900 के बीच होता है। आपका CIBIL स्कोर जितना अधिक होगा क्रेडिट कार्ड और ऋण पर बेहतर सौदे प्राप्त करना आसान होगा। अधिकांश ऋणदाता जैसे बैंक और गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियां (एनबीएफसी) 750 और उससे अधिक का सिबिल स्कोर पसंद करते हैं।

CIBIL स्कोर की गणना कौन करता है?

Table of Contents

TransUnion CIBIL क्रेडिट ब्यूरो द्वारा CIBIL स्कोर की गणना करते समय भुगतान इतिहास, क्रेडिट प्रकार, क्रेडिट की आयु और अन्य मानदंड सभी शामिल हैं। CIBIL स्कोर की गणना क्रेडिट स्कोर को प्रभावित करने वाले विभिन्न कारकों को ध्यान में रखकर की जाती है , जिसमें भुगतान इतिहास, क्रेडिट प्रकार, क्रेडिट की आयु और अन्य विचार शामिल हैं।

आपके CIBIL स्कोर को प्रभावित करने वाले कारक क्या हैं?

1.गैर-जिम्मेदार भुगतान इतिहास

आपके भुगतान इतिहास का आपके स्कोर पर सबसे बड़ा प्रभाव पड़ता है। हर महीने अपने क्रेडिट कार्ड बिलों का भुगतानऔर समय पर ऋण ईएमआई का भुगतान करना महत्वपूर्ण है। CIBIL विश्लेषण (फाइनेंशियल एक्सप्रेस द्वारा रिपोर्ट) के अनुसार, 30 दिन की चूक आपके स्कोर को 100 अंक तक कम कर सकती है। यदि आपके पास एकाधिक क्रेडिट कार्ड हैंसाथ ही ऋण भी हैं, तो भुगतान छूटने या उनमें देरी से बचने के लिए अनुस्मारक और अलर्ट सेट करने की सलाह दी जाती है।

कोई भी छूटा हुआ या अतिदेय भुगतान आपके स्कोर पर खराब प्रभाव डालता है और सुझाव देता है कि आप क्रेडिट चुकाने में सुसंगत नहीं हैं।

2. उच्च ऋण उपयोग अनुपात

आपको जिन सुनहरे नियमों का पालन करना चाहिए उनमें से एक है अपने क्रेडिट उपयोग अनुपात पर नज़र रखना। यह आपके लिए उपलब्ध क्रेडिट सीमा के अनुपात में उपयोग की गई क्रेडिट की राशि है। विशेषज्ञों के अनुसार, आपको आदर्श रूप से अपनी क्रेडिट सीमा का 30% से अधिक का उपयोग नहीं करना चाहिए। उदाहरण के लिए, यदि आपकी क्रेडिट कार्ड की सीमा 1 लाख रुपये है, तो आपको लगभग 30,000 रुपये खर्च करने चाहिए।

यदि आपने अपनी क्रेडिट सीमा का 50% से अधिक उपयोग किया है, तो इसका आपके स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। उच्च क्रेडिट एक्सपोज़र होने से ऋणदाताओं को एक लाल झंडा भेजा जाएगा क्योंकि यह इंगित करता है कि आप डिफ़ॉल्ट होने के उच्च जोखिम में हैं।

और पढ़ें-:  Nikon Scholarship Online Apply Process : अब सभी 12वी पास छात्रों रु1 लाख की स्कालरशिप मिलेगी, यहां से अभी करें आवेदन

3.केवल न्यूनतम देय राशि का भुगतान करना

देय न्यूनतम राशि मूलधन का एक छोटा सा हिस्सा है जो हर महीने बकाया होता है। यदि आप लगातार केवल न्यूनतम देय राशि का भुगतान करते हैं तो आप कर्ज के जाल में फंस सकते हैं। केवल न्यूनतम राशि का भुगतान करके ऋण को आगे बढ़ाने से आपके बकाया शेष पर ब्याज बढ़ जाता है। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि अपने क्रेडिट कार्ड बिलों का पूरा भुगतान करें। 

4.उत्कृष्ट कर्तव्य

आपको हमेशा अपने बकाया ऋणों का भुगतान करना सुनिश्चित करना चाहिए। जब आपकी क्रेडिट रिपोर्ट पर बकाया बकाया दिखाई देता है, तो इसका आपके स्कोर पर असर पड़ता है। यह सलाह दी जाती है कि बकाया राशि का भुगतान करें भले ही राशि छोटी हो।

5.एकाधिक क्रेडिट आवेदन करना

जब आप ऋण या क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करते हैं, तो ऋणदाता आपकी साख योग्यता की जांच करना चाहेंगे और वे ऐसा करने के लिए हाथ खींच लेंगे। आपकी क्रेडिट रिपोर्ट. इसे कड़ी पूछताछ कहा जाता है. यदि आप कई आवेदन भेजते हैं, तो इसका मतलब यह होगा कि एक ही समय में कई क्रेडिट पूछताछ हो रही हैं। ये कठिन पूछताछ रिपोर्ट की जाती हैं और आपके स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव डालती हैं।

6.क्रेडिट इतिहास की लंबाई

 क्रेडिट इतिहास का अर्थ है आपके द्वारा पहली बार क्रेडिट खाता खोले जाने के बाद बीते वर्षों की कुल संख्या। यदि आपके पास एक लंबा क्रेडिट इतिहास है, तो यह ऋणदाताओं को आपको ऋण देते समय सही निर्णय लेने में मदद करता है। जीवन के शुरुआती चरण में क्रेडिट इतिहास बनाने पर ध्यान देना बेहतर है, क्योंकि जब आप गृह या कार ऋण के लिए आवेदन करेंगे, तो आपके पास क्रेडिट लेनदेन का अच्छा रिकॉर्ड होगा।

उच्च CIBIL स्कोर होने के लाभ

  • ऋण और क्रेडिट कार्ड के लिए त्वरित स्वीकृति
  • ऋण पर सस्ती ब्याज दरें
  • बेहतर ऑफ़र वाले क्रेडिट कार्ड
  • उच्च क्रेडिट सीमा वाले क्रेडिट कार्ड उपलब्ध
  • ऋण आवेदनों के लिए कम प्रसंस्करण शुल्क और अन्य शुल्क उपलब्ध

CIBIL Score को लेकर RBI के 5 नए नियम

1.ग्राहक को भेजनी होगी सिबिल चेक किए जाने की सूचना

RBI ने क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनियों (CCI) के लिए एक नया नियम बनाया है ,जिसमें उन्होंने यह बताया है कि कोई भी बैंक या कोई भी नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी जब भी किसी ग्राहक की क्रेडिट रिपोर्ट को चेक कर रहा है तो ग्राहक को इस बात की जानकारी भेजनी जरूरी हो जाती है। कंपनी चाहे तो इस बात की जानकारी ग्राहक को SMS और ईमेल के जरिए भेज सकती है।

2.रिक्वेस्ट रिजेक्ट होने की वजह बतानी है जरूरी

RBI ने अपने अगले नियम में यह बताया है कि जब भी किसी ग्राहक की लोन रिक्वेस्ट रिजेक्ट की जाती है तो कंपनी के लिए यह जरूरी है कि वह ग्राहक को इसके बारे में विस्तारित रूप से बताएं। ऐसे में ग्राहक को इस बात की जानकारी आसानी से प्राप्त हो जाती है कि उसकी रिक्वेस्ट को क्यों रिजेक्ट किया गया है ?

और पढ़ें-:  Aadhar Card Not Valid As Date Of Birth: जन्म तिथि के लिए अब नहीं चलेगा आधार कार्ड, इसी माह से नया नियम हुआ लागू

वहीं प्रत्येक क्रेडिट कंपनी के लिए यह जरूरी है कि वह ग्राहकों की लोन रिक्वेस्ट रिजेक्शन के कारण की एक पूरी लिस्ट बनाएं और यह लिस्ट सभी क्रेडिट इंस्टीट्यूशन को भी भेज दे, जिससे ग्राहक के क्रेडिट स्कोर तथा ग्राहक की क्रेडिट हिस्ट्री को लेकर विभिन्न क्रेडिट इंस्टीट्यूशन के पास में डाटा बना रहेगा।

3.साल में एक बार ग्राहकों को दें फ्री फुल क्रेडिट रिपोर्ट

अपने अगले नियम में रिजर्व बैंक आफ इंडिया ने विभिन्न क्रेडिट कंपनियों के लिए एक आदेश जारी किया है जिसमें उन्होंने बताया है कि प्रत्येक कंपनी के लिए अब यह जरूरी हो गया है कि वह अपने ग्राहकों को एक फ्री फुल क्रेडिट रिपोर्ट बनाकर मुहैया करवाएँ, जिससे ग्राहक के पास में खुद की पूरी क्रेडिट रिपोर्ट उपलब्ध होगी ।

ऐसे ग्राहकों को अपने पूरी क्रेडिट स्कोर और क्रेडिट हिस्ट्री का पता चल जाएगा जिससे कंपनी के पास में भी ग्राहक का पूरा डाटा अवेलेबल होगा, जिसके आधार पर क्रेडिट कंपनियां ग्राहक की फुल क्रेडिट रिपोर्ट को जांच कर उन्हें लोन उपलब्ध करा सकेंगे।

4.ग्राहक को डिफॉल्ट रिपोर्ट करने से पहले बताना होगा जरूरी

RBI ने अपने नियम में यह भी बताया है कि यदि कोई भी ग्राहक डिफाल्टर की लिस्ट में आता है तो उसे डिफाल्टर घोषित करने से पहले कंपनियों के लिए या आवश्यक है कि वह ग्राहक को इसके बारे में बता दे । ऐसे में ग्राहक समय रहते लोन चुका कर डिफाल्टर के ठप्पे से बच सकता है। इससे ग्राहक के क्रेडिट स्कोर पर विपरीत प्रभाव भी नहीं पड़ेगा वहीं नोडल ऑफिस क्रेडिट स्कोर से जुड़ी दिक्कतों को आसानी से सुलझा सकेंगे।

5.30 दिन में शिकायत का निपटारा वरना रोजाना ₹100 का जुर्माना

RBI ने क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनियों को यह भी आदेश जारी किए हैं कि अब उन्हें प्रत्येक ग्राहक की शिकायत का निदान 30 दिन के अंदर अंदर करना होगा। यदि किसी वजह से क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनियां ग्राहकों की शिकायतों का निदान 30 दिन के अंदर नहीं करती है तो ऐसे केस में क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनियां हर रोज ₹100 के हिसाब से ग्राहक को हर्जाना देगी। जितनी देर से शिकायत का निपटारा किया जाएगा उतना अधिक जुर्माना क्रेडिट इन्फॉर्मेशन कंपनियों को चुकाना होगा ।

FAQs

1.क्या ईएमआई क्रेडिट स्कोर को प्रभावित करती है?

प्रत्येक छूटा हुआ ईएमआई भुगतान ऋण के प्रकार और बकाया राशि के आधार पर आपके क्रेडिट स्कोर को 50-100 अंक तक कम कर सकता है

2.क्या CIBIL गलत हो सकता है?

आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में गलतियाँ कई कारणों से हो सकती हैं जैसे गलत छपाई, ऋणदाता द्वारा CIBIL को दी गई गलत जानकारी, डुप्लिकेट प्रविष्टियाँ, या आपके मूल विवरण से संबंधित गलतियाँ।

3.क्या बैंक बैलेंस सिबिल स्कोर को प्रभावित करता है?

किसी व्यक्ति के बैंक खाते की जानकारी उसकी क्रेडिट रिपोर्ट पर प्रतिबिंबित नहीं होती है। इसका असर क्रेडिट स्कोर पर भी नहीं पड़ता है।

4.हम कितनी बार CIBIL स्कोर निःशुल्क जांच सकते हैं?

कोई व्यक्ति कितनी बार अपना स्कोर देख सकता है, इसकी कोई सीमा नहीं है। CIBIL वेबसाइट या कई अन्य CIBIL स्कोर प्रदाताओं पर ऑनलाइन जाएँ और केवल अपने PAN नंबर से अपना स्कोर जाँचें।

5.क्या सिबिल स्कोर हर महीने बदलता है?

अपना सिबिल स्कोर बनाने का प्रयास करते समय, पहला सवाल जो आपके मन में आ सकता है वह यह है कि सिबिल स्कोर कितने दिनों में अपडेट होता है। CIBIL स्कोर आम तौर पर हर 30-45 दिनों में अपडेट हो जाता है

Similar Posts